(वेल्डिंग पोजीशन)Welding position

 

Welding position करते समय वेल्डिंग पोजीशन की जरूरत होती है।क्युकी workpice को जोड़ते समय हम एक ही position का उपयोग नहीं कर सकते हमको अलग अलग position में weld करने जरूरत अक्सर पढती है।Welding position वांछनीय रूप से सही है।इसके बिना हमारा workpice कभी नही जुड़ सकता है।इसकी जरूरत हमको बड़े workpice को जोड़ने तथा मोटे plates ko जोड़ने तथा pipe को जोड़ने में करते है।ये सभी आपको workpice के drawing में मिल जाएंगे।मुख्यतः ये groove और fillet welding में ही उपयोग किया जाता है।

Welding position को दो मुख्य धातुओं को जोड़ने में उपयोग करते है।1)plate 2) pipe इन दोनो में ही welding position का उपयोग ज्यादा किया जाता हैं।

Fillet (F)

इसमें दो धातुओं मे से एक धातु को लम्बवत तथा दूसरे धातु के किनारे में कोण बना कर जोड़ने की एक विधी है।इनका उपयोग ज्यादातर प्लेटो वाली workpice को जोड़ने के लिए करते है।

Groove (G)

इसमें दो धातु मे से एक धातु के किनारे में कोण बनाकर तथा दूसरे धातु के किनारे में भी कोण बनाकर जोड़ने की विधी है।इसका उपयोग प्लेटो और पाइपो को जोड़ने में करते है।

 

Welding position के प्रकार

 

Fillet joint करने के लिए इनको चार भागों में बांटा जाता है।

 

1)flat welding position – इस position को हम 1F से समझते है।

 

2)horizontal welding position – इस पोजीशन को हम 2F से समझते है।

 

3)vertical welding position – इस position को हम 3F से समझते है।

 

4) overhead welding position – इस position को हम 4F से समझते है।

 

इसी तरह हम groove welding position को 6 भागो में बांटते है-

1) flat welding position – इस position को हम 1G से समझते है।

 

2)horizontal welding position – इस position को हम 2G से समझे है।

 

3)vertical welding position – इस position को हम 3G से समझते है।

 

4)overhead welding position –इस position को हम 4G से समझते है।

 

5)uphill and down hill welding position -इस position को हम 5G से समझते है।लेकिन हमको इस position की जरूरत workpice के drawing के अनुसार ही पड़ती है।यह pipe welding में ज्यादा उपयोग में लायी जाती है।

 

6)overhead vertical welding postion -इस postion को हम 6G/6GR से समझते है।इसकी भी जरूरत हमको drawing के जरूरत के अनुसार ही पड़ती है।यह भी pipe welding में उपयोग लायी जाती है।

 

AWS(American welding society) और ASME(American society of mechanical engineers) के अनुसार welding position

 

Groove और fillet joint करने के लिए

 

i) 1G/1F

ii)2G/2F

iii)3G downhill

iv)4G/4F

v)5G uphill

vi)5G downhill

vii)6G uphill

viii)6G downhill

 

AWS,ASME तथा ISO ये तीनो Welding position को अलग -अलग नामो का उपयोग अपनी सारणी या बिन्दुओ में करते है।

तो चलिए इन welding position को जानते हैं-

 

                                 1G/1F 

 

इस पोजीशन में वेल्डिंग टार्च को ऊपर तथा धातु के दोनो टुकड़े जिनको जोड़ना है वो नीचे की तरफ होते है।यह प्रक्रिया butt,fillet तथा groove weld के लिए होती हैं।

 

                                   2G

 

यह horizontal position butt joint के लिए होता हैं। जिसमें welder के शरीर का हिस्सा इसके बराबर होता है।तब जाकर welder आराम से welding कर पाता है।

 

                                   2F

 

यह horizontal position fillet welding के लिए होता है।यह position 1F की तुलना में करना थोड़ा कठिन होता है।इसमे धातु के टुकड़े के समांतर खड़े होकर welding torch को 45° मे पकड़ कर welding करता है।

 

                       3G/3F uphill downhill

 

यह vertical position होता है।जिसमें दो धातुओं को जोड़ने के लिए welder और welder का torch दोनों धातुओं के निचले हिस्से मे होते है ।इसमे भी torch को 45° डिग्री में रखा जाता है।downhill में धातु welder के ऊपरी हिस्से में होता है।इसमे torch को 45° डिग्री में पकडने की जरूरत नहीं होती।यह position गुणवत्ता के नजरिए से अच्छा माना जाता है।

 

                                   4G/4F

 

यह welding करने की overhead position होती है।यह butt position के लिए उपयोग किया जाता है।इसमें welder को torch को धातु के निचले हिस्से से पकडना होता है।यह एक कठिन स्थिति होती है।
4F इसका उपयोग fillet welding करने के लिए होता हैं।इसमे welder धातु के नीचे हिस्से मे पकड़ कर torch को 45° डिग्री में पकडा रहता है।

 

                                   5G

 

इसका उपयोग पाइप की welding करने के लिए किया जाता है।5G का मतलब groove weld होता है।AWS और ASME इसे 5G नाम देता है।तथा ISO में इसे PF के नाम से इस position को जाना जाता है।

 

                  5G uphill/downhill position

 

यह ये vertical position होता है।जिसका उपयोग pipe के butt joint को जोड़ने के लिए उपयोग में लाया जाता हैं।य़ह mannual किया जाता है।इस position में overhead,horizontal तथा flat position को welding किया जाता है।इस position में welding करते समय pipe को घुमाया जाता है।इसी प्रकार 5G downhill यह pipe को welding करने की सबसे अच्छी प्रक्रिया मानी जाती है।इसमे गुरुत्वाकर्षण बल के साथ welding करनी होती है।जिसमें पिघले हुए धातुओं को गुरुत्वाकर्षण बल से खीचने के खिलाफ welding करतीं हैं।

 

                                    6G

 

यह सबसे कठिन position होती है।जिसमें एक pipe के टुकड़े के किनारे 45° का कोण बना कर उसे दूसरे pipe के हिस्से मे जोड़ना होता है।य़ह सबसे कठिन स्थिति होती है जिसमें welder को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

तो दोस्तों आपको मेरी दी गई जानकारी कैसी लगी मुझे जरूर कमेन्ट करे।

Fuel injector किसे कहते है?

Venturimeter(वेन्चुरीमीटर) क्या है?

Lancashire boiler(लंकाशायर बायलर) किसे कहते है?

belt drive क्या होता है?