Illumination क्या होता है?

 

इल्यूमिनेशन (illumination)

एक लाइटिंग स्त्रोत द्वारा दिए जाने वाले प्रकाश की मात्रा illumination कहलाती है।इलेक्ट्रिक करंट के उष्मीय प्रभाव को illumination उत्पन्न करने के लिए प्रयोग किया जाता है।जब इलेक्ट्रिक करंट को एक कन्डक्टर में से गुजारा जाता है।तब कुछ उष्मा उत्पन्न होती है जो कन्डक्टर के तापमान को बढ़ाती है।यदि तापमान कम है (900°c तक है )तब energy खपत केवल उष्मा में परिवर्तित हो जाती है और प्रकाश उत्पन्न नहीं होता है।

                                   यदि तापमान को 900°c से और अधिक बढ़ाए तब यह पदार्थ प्रकाश की किरणें देना शुरू कर देता है।उत्पन्न प्रकाश का मान पदार्थ के तापमान पर निर्भर करती है।इसका अर्थ है कि प्रकाश की किरणें उत्पन्न करने के लिए एक पदार्थ को अधिक तापमान पर कार्य करना होता है। इसलिए इस उदेश्य के लिए केवल उन्हीं पदार्थों का प्रयोग करना होता है जिनका melting point अधिक हो,जैसे कि carbon,tentelam,trangstan इत्यादि।एक लाइटिंग स्त्रोत की illumination पावर केंडल पावर में नापी जाती है।

कैन्डल पावर (candle power) : कैन्डल पावर एक लाइट स्त्रोत की illumination power को नापने की इकाई है ।विशेष साइज और पदार्थ की बनी एक स्टेंडर्ड कैन्डल द्वारा दिए गए प्रकाश की मात्रा एक कैन्डल पावर कहलाती है।

यदि यह स्टेंडर्ड मोमबत्ती 120 gren/hr की दर से जलते है ,तब य़ह एक यूनिट illumination देती है,जिसे कैन्डल पावर कहते है । इसे CP द्वारा दर्शाया जाता है ।

Illumination की इंटेंसिटी (intensity of Illumination)

 

य़ह illumination की वह मात्रा है जो इकाई दूरी पर एक इकाई illumination स्त्रोत द्वारा दी जाती है।यह देखा गया है कि लाइट की इंटेंसिटी प्रकाश के स्त्रोत से वस्तु की दूरी के वर्ग के विलोमनुपाती होता है ।एक लाइट स्त्रोत से 2 मीटर दूरी पर इंटेंसिटी 1 मीटर दूरी अपेक्षा केवल 1/4 रह जाती है।इसी प्रकार 4 मीटर की दूरी पर यह 1 मीटर की दूरी की अपेक्षा केवल 1/16 भाग रह जाता हैं। इसलिए illumination को इंटेंसिटी में मापना जरूरी होता है। नापने की भिन्न भिन्न विधियों में illumination की इंटेंसिटी को नापने की इकाइयां निम्नलिखित है :-

ल्युमन (lumen) – प्रकाश के आयतन की इकाई (अर्थात लाइट की कुल आउटपुट) ल्युमन है।ल्युमन प्रति वर्ग फुट (lm/ft²) लाइट की वह इंटेंसिटी हैं जो एक स्टेंडर्ड मोमबत्ती द्वारा मोमबत्ती से एक फुट दूरी तक एक वर्ग फुट क्षेत्रफल को दी जाती है।

लक्स (lux) – यह भी प्रकाश की कुल output है ।illumination की इंटेंसिटी lumen प्रति वर्ग मीटर (lm/m²) है जो एक मीटर की त्रिज्या के खोखले गोले की आंतरिक सतह के मध्य में पडी एक स्टेंडर्ड मोमबत्ती द्वारा उत्पन्न होती है।

Illumination के गुण

  1. इसका प्रकाश पर्याप्त होना चाहिए ।
  2. यह सीधा आँखों पर नहीं पढ़ना चाहिए ।
  3. इसे आँखों को चकाचौंध नहीं करना चाहिए ।
  4. इसे ऐसे स्थानो पर लगाना चाहिए कि य़ह सभी ओर प्रकाश दे।
  5. आवश्यकतानुसार य़ह सही प्रकार का होना चाहिए।
  6. Shed और reflector सभी प्रकार के होने चाहिए।

Illumination के लाभ

  1. Workshop में उत्पादन बढ़ जाता है।
  2. दुर्घटनाओं की संभावना कम हो जाती है।
  3. आँखों पर तनाव नहीं पढ़ता।
  4. समान (माल) का नुकसान या बर्बादी कम हो जाती है।
  5. भवनों की आंतरिक सजावट बढ़ जाती है।
  6. यह दिमाग को आराम देती है।

तो दोस्तों आपको मेरी दी गयी जानकारी कैसी लगी मुझे जरूर कमेन्ट करे ।

तख्तापलट क्या होता है?

Multiplex winding क्या होता है?

सिन्धु घाटी सभ्यता के अवशेष कहाँ-कहाँ प्राप्त हुए?