इकोनोमाइजर(Economiser)

इकोनोमाजर(Economiser)का कार्य चिमनी के ऊपर flue gase में जाने वाली उष्मा से कुछ उष्मा प्राप्त करना तथा इसे बायलर के फीड़ वाटर को गर्म करने में प्रयोग करना है।यह चिमनी के प्रवेश द्वार तथा बायलर से निकास के बीच flue gases के रास्ते में स्थापित किया जाता है।
दो समान्य प्रकार के इकोनोमाइजर होते है-
(1)स्वतंत्र प्रकार – जो वाॅयलर सेटिंग से अलग स्थापित किये जाते है।
(2)इन्टीगरल प्रकार – जो बायलर सेटिंग के आस-पास स्थापित किये जाते है।
इकोनोमाइजर अनेक ऊध्वार्धर ट्यूबों से बना होता है।इन ट्यूबो से होकर पम्प से बायलर को जाने वाला feed water जाता है।जबकि गर्म flue gases जल ट्यूबों की बाहरी सतह के ऊपर गुजरती है।scrapers से युक्त होता है।जो यांत्रिक युक्ति से जल ट्यूबों के ऊपर व नीचे गति करतें है जो ट्यूबों की बाहरी सतह को soot deposits से बचाए रखते है।प्रत्येक इकोनोमाइजर में एक दाब गेज,सुरक्षा वाल्व,drain valve,air release valve तथा दो थर्मामीटरर्स जल का ताप मापने के लिए प्रवेश तथा निकास पर लगे होते है।
इकोनोमाइजर को furnace gases तथा feed water को दूसरी ओर हटाकर,कार्य करने से रोका जा सकता है।

इकोनोमाइजर के लाभ

इकोनोमाइजर के प्रयोग के निम्न लाभ है-
(1)ईधन की बचत होती है।
(2)वाष्पीय क्षमता में वृध्दि।
(3)बायलर प्लांट की तापीय दक्षता में वृध्दि।
(4)बायलर का जीवन बढ़ जाता है क्योकि बायलर के विभिन्न अंगो के बीच तापान्तर कम हो जाता है।जिससे तापीय प्रतिबल में कमी होती है।
तो दोस्तो आपको मेरी दी गई जानकारी कैसी लगी मुझे जरूर कमेंट करे।