बोर का परमाणु माॅडल

(Bohr’s atomic model)

 

बोर(bohr atomic model)के अनुसार,अवपरमाण्विक कणों के विषय में पुराने पारम्परिक नियम वैध नही रह सकते है।रदरफोर्ड के माॅडल पर उठी आपत्तियों को दूर करने के लिए नील्स बोर(1913)ने मैक्स प्लांक के क्वाण्टम सिध्दांत का उपयोग किया और प्लांक क्वाण्टम सिध्दांत के आधार पर परमाणु माॅडल के विषय में निम्न अवधारणाएं प्रस्तुत की।

 

(1)इलेक्ट्रान लगातार बिना ऊर्जा खोए अपनी अनुमत कक्षा में घूमते रहते है।इस प्रकार प्रत्येक कक्षा की ऊर्जा की मात्रा निश्चित होती है।अतः इन्हें ऊर्जा स्तर भी कहते है।

Bohr model

इन कक्षाओं या (कोशों) को K,L,M,N…..अक्षरों या संख्या 1,2,3,4……से प्रदर्शित किया जाता है।

(2)कूलाॅम के नियमानुसार,इलेक्ट्रान और नाभिक के मध्य स्थिर विधुत आकर्षण बल घूमते इलेक्ट्रान के लिए आवश्यक अपकेन्द्र बल को प्रतिसंतुलित कर देते है।

(3)इलेक्ट्रान केवल उन्ही कक्षों में घूम सकता है,जिनमें कोणीय संवेग (mvr) का मान h/2×π का पूणांक गुणक होगा।

mvr = nh/2π;n =1,2,3,4……..

 

(4)किसी परमाणु द्वारा ऊर्जा का अवशोषण या उत्सर्जन केवल तभी किया जाता है जब इलेक्ट्रान एक ऊर्जा स्तर से दूसरे ऊर्जा तक जाता है।

∆E = E2-E1=hc/λ

 

जहाँ E2 = n =2 स्तर की ऊर्जा
E1 =n =1 स्तर की ऊर्जा
कक्षा की त्रिज्या जितनी अधिक होगी,ऊर्जा का मान भी उतना अधिक होगा।

 

कमियां

(1)यह माॅडल हाइड्रोजन के अलावा अन्य परमाणुओं से स्पेक्ट्रम की व्याख्या करने में असफल रहे।उदाहरण के लिए, हिलीयम परमाणु जिसमें केवल दो इलेक्ट्रान हैं।

(2)यह जीमन प्रभाव(चुम्बकीय क्षेत्र में स्पेक्ट्रमी रेखाओं का विपाटन) और स्टार्क प्रभाव(विधुत क्षेत्र में स्पेक्ट्रमी रेखाओं का विपाटन) को स्पष्ट करने में असफल रहा।

(3)यह परमाणुओ के रासायनिक आबन्धो द्वारा अणु बनाने की योग्यता की व्याख्या नही कर सका।

आपको मेरी दी गई जानकारी कैसी लगी मुझे जरूर कमेंट करें।

प्रत्यास्थता Elasticity किसे कहते है?

विकिरण(Radiation)किसे कहते है?

कार्बोहाइड्रेट(Carbohydrates)क्या है?

मिश्रण किसे कहते है?